Festivals & Days of April 2019 in Hindi

अप्रेल के त्यौहार और खास दिन Festivals & Days of April Month

इस वर्ष अप्रेल April 2019 के महीने Month में मुर्ख दिवस Fool’s Day, विश्व स्वास्थ दिवस world health Day, जल संसाधन दिवस world water Resource day, ज्योतिबा फुले जयंती jyotibafule jayanti, वल्लभाचार्य जयंती Vallabhacharya Jayanti, श्री सैन जयंती shree sain jayanti, डॉ अम्बेडकर जयंती Dr. Ambadkar Jayanti,बैसाखी Baisakhi, जलियांवाला बाग हत्याकांड Jallianwala Bagh massacre, शिवाजी जयंती shivaji Jayanti, परशुराम जयंती Parshuram Jayanti, पुरातत्व दिवस world Heritage Day, संत सूरदास जयंती Sant Surds Jayanti, विश्व पृथ्वी दिवस World Earth Day, विश्व पुस्तक दिवस World Book Day, विश्व मलेरिया दिवस World Malaria Day (WHO) और बुद्ध पूर्णिमा Buddh Purnima सहित अनेको व्रत व  त्यौहार Festivals  मनाए जाएंगे.

April 2019 स्वास्थ दिवस World Health Day

7 अप्रैल को पूरे विश्व भर में लोगों द्वारा विश्व स्वास्थ्य दिवस मनाया जाता है. स्वास्थ्य के मुद्दे और समस्या की और आम जनता में जागरुकता बढ़ाने के लिये वर्षों से विश्व स्वास्थ्य दिवस मनाया जाता हैं. डबल्यूएचओ WHO  के द्वारा जेनेवा में वर्ष 1948 में पहली बार विश्व स्वास्थ्य सभा रखी गयी जहाँ 7 अप्रैल को वार्षिक तौर पर विश्व स्वास्थ्य दिवस मनाने के लिये फैसला किया गया था. विश्व स्वास्थ्य दिवस के रुप में 7 अप्रेल 1950 में पूरे विश्व में इसे पहली बार मनाया गया था.इस दिन स्वस्थ जागरूकता के लिए अनेको कार्क्रमों का आयोजन किया जाता है.

April 2019 जलियांवाला बाग हत्याकांड Jallianwala Bagh massacre

 

जलियांवाला बाग हत्याकांड 13 अप्रैल 1919 बैसाखी के दिन हुआ था. भारत के इतिहास की ये सबसे क्रूरतम घटनाओ में से एक है. इस दिन आजादी  की लड़ाई के लिए पंजाब में अमृतसर के जलियांवाला बाग में 10-15 हजार लोग जमा थे. तभी इस बाग के एकमात्र रास्ते से जनरल डायर ने निहत्थे मासूमों पर गोलिया चलवाई. जलियांवाला बाग में जमा लोगों की भीड़ पर कुल 1,650 राउंड गोलियां चलीं जिसमें सैंकड़ो अहिंसक सत्याग्रही शहीद हो गए और हजारों घायल हुए. घबराहट में कई लोग बाग में बने कुंए में भी कूद पड़े थे.

 

यह भी पढ़े:

सुभाष चंद्र बोस की जीवनी और आजाद हिंद फौज का खजाना

चीन के वन रोड वन बेल्ट के बारे में प्रमुख तथ्य

कारगिल युद्ध की रोचक जानकारियां

सियाचीन ग्लेश्यिर के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य

April 2019 बैसाखी Baisakhi

13 अप्रेल के दिन  बैसाखी का पर्व धूम -धाम से मनाया जाता है.ये पर्व  पंजाब और आसपास के प्रदेशों के सबसे बड़ा त्योहार में से एक है. पंजाब और हरियाणा के किसान सर्दियों की फसल काट लेने के बाद 13 अप्रेल को नए साल की खुशियाँ मनाते हैं. साथ ही 13 अप्रैल 1699 को दसवें गुरु गोविंद सिंह जी ने खालसा पंथ की स्थापना की थी. तभी से सिख समुदाय के लोगे इस त्योहार को सामूहिक जन्मदिवस के रूप में भी मनाते है.इस दिन सिख लोग अपने परिवारजनों के साथ गुरद्वारे में अरदास करते है. साथ ही  स्वादिष्ट खाना का  मज़ा लेते है और भंगड़ा नृत्य करते हैं.

April 2019 ज्योतिबा फुले जयंती jyotibafule jayanti

हर साल 11 अप्रेल के दिन ज्योतिबा फुले की जयंती मनाई जाती है. ज्योतिबा फुले 19वीं सदी के महान विचारक, समाज सेवी, लेखक, दार्शनिक और क्रान्तिकारी कार्यकर्ता थे. इस साल ज्योतिराव फुले की 191 वीं जयंती मनाई जाएगी. इस मौके पर जगह -जगह लोगे ज्योतिबा की तस्वीर के आगे पुष्प अर्पित करते है. साथ ही ज्योतिबा  द्वारा किए गए कार्यों को यादे करने के साथ ही उनके बताय मार्ग पे चलने का प्रण लेते है.

ज्योतिबा फुले का जन्म 1827 ई. में पुणे में हुआ था. ज्योतिराव फुले का विवाह 1840 में सावित्री बाई से हुआ, जो बाद में स्‍वयं एक मशहूर समाजसेवी बनीं. दलितों और पिछड़े वर्ग के उत्थान के लिए ज्योतिबा ने सत्यशोधक समाज स्थापित किया. उनकी समाजसेवा देखकर 1888 ई. में मुंबई की एक विशाल सभा में उन्हें महात्मा  की उपाधि दी. ज्योतिबा शुरु से ही बाल-विवाह विरोधी और विधवा-विवाह के समर्थक थे. ज्योतिराव फुले ने विधवाओं और महिलाओं के कल्याण के लिए जीवन भर संघर्ष किया था.

April 2019 अम्बेडकर जयंती Dr. Ambadkar Jayanti

 

 

 

ज्ञान एक व्यक्ति के जीवन का आधार है – डा. भीम राव अंबेडकर

14 अप्रैल के दिन भारत सहित विश्व के अनेको देशो में डॉ भीमराव अंबेडकर जयंती को धूम -धाम से मनाया जाता है. भारत को संविधान देने वाले डा. भीम राव अंबेडकर का इस दिन जन्म हुआ था. 14 अप्रैल के दिन पूरे भारत वर्ष में सार्वजनिक अवकाश होता है. सभी जगह उनकी मूर्ति पर श्रद्धांजलि दी जाती है और उनके समाज के उथान के लिए किये गए कामो को याद किया जाता है. बाबा बाबा साहब को कुछ लोगे भगवान की पूजा करते है.डा. भीम राव अंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 को मध्य प्रदेश के एक छोटे से गांव में हुआ था. डा. भीमराव अंबेडकर के पिता का नाम रामजी मालोजी सकपाल और माता का भीमाबाई था.

15 अगस्त 1947 को भारत की स्वतंत्रता के बाद पहले कानून मंत्री के रुप में सेवा देने के लिये उन्हें काँग्रेस सरकार द्वारा आमंत्रित किया गया था और 29 अगस्त 1947 को संविधान सभा के अध्यक्ष के रुप में नियुक्त किये गये जहाँ उन्होंने भारत के नये संविधान का ड्रॉफ्ट तैयार किया जिसे 26 नवंबर 1949 में संवैधानिक सभा द्वारा अंगीकृत किया गया.  डा.अंबेडकर भारत की वित्त कमीशन की भी स्थापना की थी.

April 2019 परशुराम जयंती Parshuram Jayanti

18 अप्रैल के दिन  परशुराम  जयंती मनाई जाती है.  हिंदी पंचांग के अनुसार वैशाख माह की शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि की रात में पहले प्रहर में भगवान परशुराम का जन्म हुआ था. राजा प्रसेनजित की पुत्री रेणुका और भृगुवंशीय जमदग्नि के पुत्र,परशुराम जी भगवान विष्णु के अवतार थे. परशुराम जी परम ज्ञानी तथा महान योद्धा थे इन्ही के जन्म दिवस को परशुराम जयंती के रूप में संपूर्ण भारत में हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है.

April 2019 विश्व पुस्तक दिवस World Book Day

23 अप्रैल के दिन विश्व पुस्तक दिवस मनाया जाता है. ऐसा मानना है की मीगुएल डी सरवेंटस नाम से सबसे प्रसिद्ध लेखक को श्रद्धांजलि देने के लिये स्पेन के किताब बेचने वालों के द्वारा सबसे पहले वर्ष 1923 में 23 अप्रैल के दिन  विश्व पुस्तक दिवस मनाया था. बाद में विश्व पुस्तक दिवस को मनाने के लिये यूनेस्को द्वारा 1995 में पहली बार विश्व पुस्तक दिवस 23 अप्रैल को मनाने का फैसला किया गया था. किताबों और लेखकों को श्रद्धांजलि देने के लिये और पूरे विश्व भर के लोगों का ध्यान खींचने के लिये और किताबों के बीच असली खुशी और ज्ञान की खोज करने के लिए इस दिन पुस्तक प्रेमी सवांद के अनेको कार्क्रमों का आयोजन करते है।

April 2019 बुद्ध पूर्णिमा Buddh Purnima

गौतम बुद्ध की जयंती को बुद्ध पूर्णिमा  रूप  मनाया जाता है. इस साल 2018 में  बुद्ध पूर्णिमा 30 अप्रेल को है. इस दिन को  निर्वाण दिवस भी कहा जाता है. इसी दिन भगवान बुद्ध को बुद्धत्व की प्राप्ति हुई थी.

 

यह भी पढ़ें:

वैष्णों देवी की यात्रा पर जाने से पहले रखें ये सा​वधानियां

पवित्र नगर वाराणसी के बारे में रोचक तथ्य

श्रीनाथ जी की महिमा और दर्शन

अमरनाथ जाते वक्त इन बातों का रखें ध्यान

शिरडी के साईं बाबाः सबका मालिक एक

रामदेवरा की पद यात्रा

पुरी की भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा

0 Comments

Add Yours →

Leave a Reply