10 Tallest Statues of the world in Hindi

विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमाएं

प्राचीन काल से ही बड़ी विशालकाय प्रतिमाओं को लेकर विशेष आकर्षण रहा है. 6वीं शताब्दी के दौरान अफगानिस्तान में पहाड़ में उकेरी गई बामियान बुद्ध प्रतिमाएं हों या मिस्र में ईसा से करीब 2500 वर्ष पूर्व गीजा के पठार में निर्मित द ग्रेट स्फिंक्स हो, ऐसी अनेक ऊंची-ऊंची प्रतिमाएं स्मारक के रूप में दुनिया के विभिन्न हिस्सों में बनवाई गई. आइए, एक नजर डालते हैं विश्व की दस सबसे ऊंची प्रतिमाओं पर. 

List of Tallest Statues in Hindi विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमाएं

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी (भारत)

 भारत के पहले उप प्रधानमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल को भारत के एकता के सूत्र मे पिरोने वाले महान शख्स के रूप में याद किया जाता है. उनकी स्मृति में गुजरात में वडोदरा के समीप केवड़िया गांव में नर्मदा नदी के बीच सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा बनाई गई है, जो 182 मीटर यानी करीब 597 फीट ऊंची है. स्टैच्यू ऑफ यूनिटी विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा है. ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ की ऊंचाई न्यूयॉर्क के 93 मीटर उंचे ‘स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी’ से करीब दोगुना है. स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का कुल भार करीब 1700 टन है. इसके पैर 80 फीट, हाथ 70 फीट, कंधे 140 फीट और चेहरा 70 फीट के आकार के हैं.

 स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का उद्घाटन भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 31 अक्टूबर 2018 को किया. यह मूर्ति महज 33 माह के रिकॉर्ड कम समय में बनकर तैयार हुई है. 

स्प्रिंग टेम्पल बुद्धा (चीन)

spring temple buddha china

 

चीन के हेनान प्रांत में झाओकुन टाउनशिप में स्थित स्प्रिंग टेंपल की 153 मीटर यानी 503 फीट ऊंची बुद्ध प्रतिमा विश्व की दूसरी सबसे ऊंची प्रतिमा है.  स्प्रिंग टेंपल के बुद्ध की मूर्ति का निर्माण 11 साल में हुआ और वर्ष 2002 में पूरा हुआ. यह मूर्ति महावैरोचन बुद्ध की है. इस मूर्ति में भगवान बुद्ध 20 मीटर ऊंचे कमल पर विराजमान है. यह मूर्ति 25 मीटर ऊंची इमारत पर बनी हुई है. 

लेक्यून सेटक्यार (म्यांमार)

lacune setcyar

 

 म्यामांर में स्थित लेक्यून सेटक्यार स्टैंडिंग बुद्धा विश्व की तीसरी सबसे ऊंची प्रतिमा है. लेक्यून सेटक्यार की ऊंचाई 116 मीटर यानी करीब 381 फीट है, जिसमें मूर्ति की कुर्सी यानी बेस भी शामिल है. इस मूर्ति का निर्माण म्यामांर के  मोनिवा नगर के पो ख्वांग त्वांग में  वर्ष 2008 में हुआ. यह मूर्ति अंदर से खोखली है और इससें सीढ़ियों के रास्ते ऊपर जाकर मनोहारी दृश्य का आनंद लिया जा सकता है. 

उशिकु दायबुत्सु (जापान)

जापान के इराबाकी प्रांत के उशिकु में स्थित उशिकु दायबुत्सु भी एक बुद्ध प्रतिमा है, जिसका निर्माण 1993 में पूर्ण हुआ. 110 मीटर ऊंची यह प्रतिमा 10 मीटर ऊंचे बेस पर बनी है. इसमें एलीवेटर के द्वारा 85 फीट ऊपर स्थित मंच पर जाकर आस-पास का दृश्य निहारा जा सकता है. यह विश्व की चौथी सबसे ऊंची प्रतिमा है. 

गुआन यिन ऑफ ननशान (चीन)

चीन के सान्या में दक्षिण सागर में गुआन यिन ऑफ ननशान की 108 मीटर यानी करीब 354 फीट ऊंची प्रतिमा स्थित है. बोधिसत्व की यह प्रतिमा सान्या शहर के ननशान बौद्ध मंदिर के पास स्थित है. यह विश्व की पांचवी सबसे ऊंची प्रतिमा है. 

यान एवं हुआंग स्टैच्यू (चीन)

चीन के सम्राट यान दी और हुआंग दी की प्रतिमाओं की ऊंचाई 106 मीटर है और यह विश्व की 6वीं सबसे ऊंची प्रतिमा है इन प्रतिमाओं का निर्माण 20 साल चला और वर्ष 2007 में पूरा हुआ. ये प्रतिमाएं हेनान प्रांत की राजधानी झेंगझोऊ में स्थित हैं. 

सेंदाई दाइकन्नन (जापान)

जापान के सेंदाई में स्थित बोधिसत्व कन्नन की यह प्रतिमा 100 मीटर ऊंची है और विश्व की सातवीं सबसे ऊंची मूर्ति है. एलीवेटर के माध्यम से इस प्रतिमा के शीर्ष पर पहुंचा जा सकता है.  

गुइशान गुआन यिन (चीन)

 एक हजार हाथों और आंखों वाली गुइशान गुआन यिन की यह 99 मी. ऊंची प्रतिमा चीन के वेइशान में स्थित है. कांसे की बनी अवलोकितेश्वर की यह प्रतिमा विश्व की आठवीं सबसे ऊंची मूर्ति है.

पीटर द ग्रेट स्टैच्यू (रूस)

रूस की राजधानी मॉस्को में मोस्क्वा नदी और वोदवोस्की नहर के संगम पर पीटर द ग्रेट स्टैच्यू स्थित है. इसकी ऊंचाई 98 मीटर है. इसे जॉर्जिया के डिजाइनर जुराब त्सेरेतेली ने डिजाइन किया है. यह स्टैच्यू रूस की नेवी के तीन सौ वर्ष पूरे होने की स्मृति में बनवाया गया. 1997 में बना यह स्टैच्यू विश्व का 9वां सबसे ऊंचा स्टैच्यू है. इसका वजन 1000 टन है और इसमें 600 टन स्टील, ब्रॉन्ज और तांबे का इस्तेमाल किया गया है. 

द ग्रेट बुद्धा (थाईलैंड)

द ग्रेट बुद्धा थाईलैंड का सबसे बड़ा और विश्व का दसवां सबसे बड़ा स्टैच्यू है. थाईलैंड के आंग थोंग प्रांत की वांग मुआंग मोनेस्ट्री में स्थित इस प्रतिमा की ऊंचाई 92 मीटर और चौड़ाई 63 मीटर है. सीमेंट से बनी इस प्रतिमा का निर्माण 1990 में शुरू हुआ और वर्ष 2008 में पूरा हुआ.

Leave a Reply