primary complex facts and treatment in hindi – प्राइमरी काॅम्पलेक्स (बच्चों की टी. बी. क्या है)

प्राइमरी काॅम्पलेक्स (बच्चों की टी. बी. क्या है)

हमारे देश में टी. बी.(ट्यूबरकुलोसिस या प्राइमरी काम्प्लैक्स)- एक बहुत ही आम बीमारी है जो, कि ज्यादातर फेफड़ो पर असर करती हैं- हालांकि शरीर का शायद ही कोई अंग है जिसको यह नहीं पकड़ती।

Primary Complex Myths- कुछ गल

विचार/भ्रांतियां: 

1.प्राइमरी काॅम्प्लैक्स भगवान का शाप नहीं है- केवल एक रोगाणु का असर (इन्फेक्शन) है जिस प्रकार निमोनिया या टाॅयफाॅयड.
2.प्राइमरी काम्प्लैक्स का इलाज असम्भव नहीं है-बल्कि आज की नई एवं असरदार दवाइयों से उतना ही सम्भव है जितना निमोनिया या टाॅयफाॅयड का.

Is Primary Complex Contagious?

3.बच्चों की टी. बी. औरों को नहीं फैलती-अतः यह छूत की बीमारी नहीं है. बड़े लोगों (वयस्कों) से अवश्य फैल सकती है-अतः बच्चे को औरों से अलग करना बिल्कुल भी आवश्यक नहीं है. 

What is T.B. तो फिर टी. बी. क्या है ?

यह एक संक्रामक रोग (इन्फेक्शन) है जो कि माईकोबैक्टिरियम ट्यूबरकुलोसिस नामक रोगाणु द्वारा होता है.

Primary Complex vs TB

ये रोगाणु काफी हद तक वैसे ही हैं जैसे कि टाॅयफाॅयड एवं डिसेन्ट्री के हालांकि इसकी कुछ अलग गुणधर्म हैं. 

Primary Complex in Adults

यह रोगाणु जहां भी शरीर में पहुंचते हैं वहां एक प्रकार का रिएक्शन बनता हैं जिसको ‘प्राइमरी काम्प्लैक्स’ कहते हैं-और बस यही बच्चों की टी. बी. है.
यह मुख्यतया फेफड़ो में बनता है हालांकि शायद ही शरीर का कोई अंग ऐसा है जहां यह नहीं बन सकता. 

टी. बी. के लक्षण क्या हैं ?

लम्बा बुखार /खांसी के साथ या बिना 
वजन घटना /वजन नहीं बढ़ना 
खांसी जो कि साधारण दवाईयों (पीने की दवा, एन्टीबायोटिक) से ठीक नहीं हो रही हो
गांठे-गले या बगल में 
गंभीर लक्षण जैसे कि दौरा, लकवा, बेहोशी इत्यादि 
जैसा कि काफी बच्चों में होता है-मां बाप की सिर्फ यही शिकायत कि बच्चे का विकास नहीं हो रहा है.

Natural Treatment for Primary Complex- टी. बी. से बचने के लिए क्या करें ?

1.समय पर बी.सी.जी. का टीका
2.घर पर टी.बी. के मरीज (मां, बाप, बड़े बूढ़े, नौकर आदि) की जानकारी तुरन्त डाॅक्टर को देना (लम्बा बुखार, लम्बी खांसी, वनज घटना, खांसी में खून आना, गले मं गांठे।)
3.बच्चे को अच्छी खुराक-क्योंकि टी.बी. के प्रारम्भिक बीज तो करीब करीब हम सब में हैं- टी.बी. की बीमारी तब पकड़ती है जब शरीर की प्रतिरोध शक्ति (बीमारी से लड़ने की ताकत) कम हो जाती हैै.

Treatment of  TB इलाज सम्बन्धी आवश्यक सूचनायें:

1.इलाज काफी लम्बा चलेगा-करीब 6 माह-हो सकता है 9 माह या एक वर्ष भी 
2.इलाज में सबसे आवश्यक बात है नियमितता. पूरे इलाज में एक दिन की खुराक भी नहीं टूटनी चाहिए-अन्यथा तब तक किया हुआ पूरा इलाज व्यर्थ जा सकता है.
3.दवाई खाली पेट सुबह पहले लेनी है.
4.बच्चे का पेशाब लाल /नारंगी आ सकता है-इससे घबरायें नहीं-यह दवा का रंग है-खून नहीं.
5.चिकित्सक को बीच—बीच में, जैसा बताया जाये, नियमित रूप सेे चेकअप करवाते रहना चाहिए. 
6.निम्न मेंसे कुछ भी हो तो तुरन्त चिकित्सक को दिखायें-
-उल्टी 
-पीलिया
-पेट में दर्द
-भूख में कमी
-दौरे /सुस्ती /बेहोशी
-पांव/हाथ में सुन्न, कमजोरी और झनझनाहट
 
यह भी पढ़ें:

0 Comments

Add Yours →

Leave a Reply