aladdin story in hindi – अलादीन की कहानी

अलादीन और जादुई चिराग

कौन है अलादीन ?

अलादीन मशहूर किताब अरेबियन नाइट्स का एक पात्र है जो अफगानिस्तान के शहर मे रहता है. वह एक गरीब विधवा का बेटा है, अलादीन बहुत ईमानदार और बहादुर है, उसके पास एक जिन्न है जो एक चिराग में रहता है जिसकी कहानी यहां दी जा रही हैं.

अलादीन और जादुई चिराग

एक समय कि बात है. बहुत दुर एक शहर में एक दर्जी रहा करता था. उस दर्जी का एक बेटा था. उसका नाम अलादीन था, कुछ समय बाद उसके पिता बीमार पड़ गये और उनकी मृत्यु हो गई, अलादीन की मां के लिए यह मुष्किल वक्त था, उसे कमाने के लिए बाजार जाना पड़ता, तब अलादीन भी शहर की गलियों मे खेलने निकल जाया करता, दिन भर कुछ ना कुछ आवारा गर्दी करता था, इसी तरह दिन बीत रहे थे.
अलादीन एक दिन बाजार में कुछ आवारा लड़कों के साथ खेल रहा था तभी एक आदमी आया और उसने अलादिन को गले से लगा लिया. अलादिन आष्चर्यचकित रह गया. वह आदमी रोते हुए अलादिन के पिता को याद करने लगा. उसने अलादिन को बताया कि वह उसका चाचा है और व्यापार के सिलसिले में विदेश गया हुआ था. उसे जब अपने भाई की मृत्यु की खबर मिली तो वह अपने भतीजे और अपने भाई की बेवा से मिलने के लिए चला आया है.

अलादीन इन हिंदी

उसने अलादीन को कुछ अशर्फिया दी और उससे घर का राशन और दूसरे जरूरी सामान खरीद कर घर ले जाने को कहा. अलादीन ने घर पहुंच कर अपने चाचा के बारे में मां से पूछा तो मां ने कहा कि उसके पिता को कोई भाई नहीं है. अलादीन ने मां को बताया कि चाचा ने उसे अशर्फिया दी हैं और जरूरी सामान खरीदवाया है तो मां को लगा कि कोई दूर का भाई होगा जिसे वह नहीं जानती है.

the story of aladdin in hindi

अगले दिन वह व्यक्ति अलादीन के घर आया और ढेर सारे उपहार लाया और अपनी भाभी से भाई के मृत्यु का शोक जताया. अलादीन की मां को भी यकीन हो गया कि वह जरूरत उसके पति का भाई है. इस तरह अलादीन का चाचा उसके घर पर रहने लगा और परिवार का सारा खर्च उठाने लगा. अलादीन और उसकी मां को विष्वास हो गया कि यह आदमी उनका रिश्तेदार ही है.
एक शाम जब अलादीन अपने चाचा के साथ बाजार घूम रहा था तो उसके चाचा ने कहा कि वह शहर में रहते-रहते ऊब गया  है और कुछ समय के लिए पास के जंगल में जाना चाहता है और अलादीन को भी उसके साथ चलना होगा. अलादीन अपने चाचा के साथ चलने के लिए राजी हो जाता है. जंगल में एक जगह उसका चाचा पहुंच कर रूक जाता है और हाथ में लाल पाउडर लेकर मंत्र पढ़ कर हवा में उछालता है.
ऐसा करते ही एक धमाका होता है और जमीन में एक सुंरग का दरवाजा खुल जाता है. ये देखकर अलादीन डर के मारे भागने लगता है तो उसका चाचा उसे रोक लेता है और उसे कहता है कि अगर उसे अमीर बनना है तो यह एक सुनहरा मौका है. उसे सुरंग के भीतर जाना होगा और वहां बने खानकाह में एक जलते हुए चिराग को बुझा कर बाहर लाना होगा. अंदर बेशकीमती जवाहरात भी हैं, अलादीन चाहे तो उसमें से कुछ रख सकता है, जिससे उसकी गरीबी दूर हो जाएगी.

aladdin the series in hindi

अलादीन अपने चाचा की बात मान जाता है और सुरंग के अंदर उतर गया. अंदर एक बहुत ही सुंदर बगीचा था और सुनहरा प्रकाश फैला हुआ था. दूध की नदी बह रही थी और पेड़ रसीले फलों से लदे हुए थे. चारो तरफ हीरे जवाहरात रास्तों में कंकड़ की तरह फैले हुए थे. अलादीन ने कुछ हीरे उठा कर जेब में रख लिये.
अलादीन टहलते हुए एक जगह पहुंचा जहां एक चिराग जल रहा था. अलादीन ने चिराग को बुझा कर अपनी जेब में रखा तो जमीन हिलने लगी. अलादीन तेजी से सुरंग के दरवाजे की ओर भागा तो देखा कि दरवाजा धीरे-धीरे बंद हो रहा है. अलादीन तेजी से दरवाजे की ओर लपका. उसका चाचा दरवाजे के मुहाने पर खड़ा था.
अलादीन जैसे ही दरवाजे पर पहुंचा, चाचा ने आवाज लगाई कि अलादीन जल्दी से चिराग मुझे दे दो. अलादीन ने अपना हाथ बढ़ाया और चाचा से खुद को सुरंग से बाहर निकालने को कहा लेकिन चाचा ने अलादीन से चिराग मांगा. अलादीन को चाचा की नियत पर शक हुआ तो उसने चाचा से कहा कि अगर वह उसको बाहर नहीं निकालेगा तो वह चिराग भी नहीं देगा. इस जद्दोजहद में दरवाजा बंद हो गया और अलादीन गुफा में कैद हो गया.

अलादीन हिंदी में

अलादीन अंदर बंद होने के बाद बहुत पछताया कि आखिर उसने एक अजनबी पर विश्वास क्यों किया? दरअसल अलादीन का नकली चाचा बनने वाला इंसान अफ्रीका का एक जादूगर था जिसे अलादीन के शहर के नजदीक जंगल में छुपे एक जादुई चिराग का नक्शा मिल गया था लेकिन इस चिराग के साथ शर्त यह थी कि उसे कोई इसी शहर का आदमी ही सुरंग से बाहर निकाल सकता है. इस काम के लिए उसने अलादीन को चुना क्योंकि चिराग लेने के बाद वह अलादीन को उसी सुरंग में कैद करके मार देना चाहता था. अलादीन का एक बूढ़ी मां के सिवा कोई नहीं था इसलिए उसका कुछ बिगड़ने वाला नहीं था.
अलादीन अब इस सुरंग में कैद हो गया था, उसे भूख लगती तो फल खा लेता और प्यास लगती तो नदी से दूध पी लेता. आखिर में उसने फैसला किया कि वह इस गुफा में दूसरा रास्ता खोजने का प्रयास करेगा. इसके लिए वह उन रास्तों पर चला गया जहां अंधेरा था. अंधेरे के कारण उसे ठोकर लगी और वह गिर गया. ऐसा होते ही एक धुंआ उठा और एक जिन्न सामने आया और पूछा कि क्या हुकुम है मेरे आका.
डरे हुए अलादीन ने जिन्न को कहा कि मुुझे इस सुरंग से बाहर निकालो. पलक झपकते ही अलादिन सुरंग से बाहर उसी जगह खड़ा था जहां उसके नकली चाचा ने उसे छोड़ा था. अलादीन जैसे-तैसे घर पहुंचा तो पाया कि उसके बिना उसकी मां का हाल बुरा था. अलादिन के जेब में अभी भी चिराग पड़ा हुआ था. उसने चिराग को बाहर निकाला और मां को बोला कि उसे यह चिराग मिला है, इसे बाजार में बेचकर कुछ पैसे मिल जाएंगे लेकिन बेचने से पहले इसे रगड़ कर साफ कर लेते हैं.
जैसे ही अलादीन ने चिराग को रगड़ा वही जिन्न फिर सामने आया और बोला क्या हुकुम है मेरे आका. अलादीन की मां उस जिन्न को देखकर बेहोष हो गई. अलादीन ने हिम्मत जुटा कर पूछा कि तुम कौन हो. जिन्न बोला कि वह इस चिराग में रहता है और यह चिराग जिसके पास भी रहता है, वह उसका गुलाम हो जाता है. अलादीन ने पूछा कि क्या तुम मेरी कोई भी इच्छा पूरी कर दोगे तो जिन्न ने बताया कि वह कुछ भी कर सकता है.
अलादीन ने जिन्न से ढेर सारा स्वादिष्ट खाना लाने को कहा क्योंकि उसे बहुत जोर से भूख लगी थी. देखते ही देखते सोने की थालियों में ढेर सार खाना अलादीन के सामने आ गया. इस तरह अलादीन ने जिन्न की मदद से अपनी गरीबी दूर कर ली. रहने के लिए एक आलीशान मकान बनवा लिया और ढेर सारे हीरे जवाहरात इकट्ठे कर लिए.
अलादीन के पास शानोशौकत थी, पैसा था, नौकर चाकर थे लेकिन उसकी मां को एक चिंता थी कि उसकी शादी किसके साथ करवाई जाए. अलादीन ने फौरन चिराग रगड़ा और जिन्न ने बाहर आकर पूछा कि क्या हुकुम है मेरे आका. अलादिन ने जिन्न से कहा कि उसे इस दुनिया की सबसे सुंदर लड़की से शादी करनी है तो फौरन पता लगाओ कि इस दुनिया की सबसे सुंदर लडकी कौन है.
जिन्न फौरन रवाना हो गया और थोड़ी ही देर में पता लगा कर आ गया कि इस दुनिया की सबसे सुंदर लड़की अफगानिस्तान की शहजादी नूरमहल है. अलादीन ने जिन्न से नूरमहल की तस्वीर दिखाने को कहा, जिन्न ने जादू से नूरमहल की तस्वीर बना दी. नूरमहल को देखते ही अलादीन को उससे मोहब्बत हो गई.
अलादीन अपनी मां के पास गया और बोला कि आपको अफगानिस्तान के सुल्तान के पास जाकर शहजादी का हाथ मेरे लिए मांगना होगा. अलादीन की मां ढेर सारे हीरे जवाहरात लेकर सुल्तान के पास गई. सुल्तान इन उपहारों को देखकर खुश हो गया लेकिन उसने शहजादी की शादी में एक अड़चन बताई कि उसका अभी दुश्मन देश के साथ युद्ध चल रहा है, जिसमें वे हारने वाले है. अगर अलादीन उस लड़ाई में उसकी जीत करवा देगा तो वह शहजादी नूरमहल के साथ अलादीन का निकाह करवा देगा.
अलादीन की मां यह बात अलादीन को बताती है तो वह चिराग रगड़ कर जिन्न को बुलाता है और अफगानिस्तान को लड़ाई जितवाने के लिए बोलता है. जिन्न पलक झपकते ही दुश्मन को भगा देता है. यह देखकर बादशाह खुश हो जाता है और नूरमहल का निकाह अलादीन से करने के लिए राजी हो जाता है.
अफगानिस्तान का वजीर इस बात से खुश नहीं होता है क्योंकि वह अपने बेटे रहमान की शादी बादशाह की बेटी से करवाकर उसे अफगानिस्तान का बादशाह बनवाना चाहता है. वह बादशाह के कान भरता है और अलादीन के बारे में झूठी बातें बादशाह को बताता है. इससे बादशाह अलादीन से नाराज हो जाता है और वजीर के बेटे रहमान से नूरमहल की शादी करने के लिए तैयार हो जाता है.
अलादीन को जब यह बात पता चलती है कि रहमान और नूरमहल की शादी हो रही है तो वह रात को नूरमहल और रहमान दोनों को जिन्न की मदद से अपने घर उठा लाता है और रहमान को पेड़ से बांध कर जिन्न से खूब डराता है. नूरमहल को भी अलादीन से मोहब्बत हो जाती है. रहमान बादशाह के पास जाकर जिन्न की डर की वजह से नूरमहल से शादी करने से इंकार कर देता है. ऐसे में बादशाह के सामने नूरमहल की शादी अलादीन से करने के सिवा कोई चारा नहीं बचता और अलादीन तथा नूरमहल की शादी हो जाती है. अलादीन बाद में अफगानिस्तान का बादशाह बन जाता है और जिन्न की मदद से सभी दुश्मनों को हरा देता है.

Leave a Reply