Film Review: Padman पैडमैन

फिल्म समीक्षा : पैडमैन

आर. बालकी के निर्देशन में बनी अक्षय कुमार की फिल्म पैडमैन Padman Film की बॉक्स आफिस पर अच्छी शुरुआत रही। रिलीज होने से पहले जो उम्मीदें इस फिल्म से लगाई गई थीं, उन पर फिल्म पूरी तरह खरी उतरी है।

सस्ते सैनेटरी नैपकिन पैड Low Cost Sanitary Pad बनाने वाली मशीन का आविष्कार करने वाले अरुणाचलम मुरुगानंतम Arunachalam Muruganantham के संघर्ष की सच्ची कहानी पर बनी यह फिल्म पहले ही काफी सुर्खियां बटोर चुकी थी।

पैडमैन फिल्म की पटकथा Story of Padman

पैडमैन फिल्म की Story मुरुगानंतम की कहानी है। फिल्म का मुख्य किरदार लक्ष्मीकांत चौहान (अक्षय कुमार) Akshay Kumar है जो शादी के बाद एक दिन देखता है कि उसकी पत्नी गायत्री (राधिका आप्टे) Radhika Apte माहवारी के दौरान पैड के स्थान पर गंदे कपड़ों का इस्तेमाल करती है।

जब लक्ष्मीकांत को पता चलता है कि माहवारी के दौरान गंदे कपड़े या दूसरी सामग्री इस्तेमाल करने से कई तरह की बीमारियों की आशंका होती है तो वह अपनी पत्नी के लिए सैनेटरी नैपकिन बनाने में जुट जाता है। सैनेटरी नैपकिन पैड बनाने में लक्ष्मीकांत को समाज की दकियानूसी सोच के कारण जो संघर्ष करना पड़ता है, उसी पर पूरी फिल्म का आधारित है।

पूरी फिल्म में माहवारी के दिनों में गंदे कपड़े के स्थान पर सुरक्षित पैड Safe Pad पहनने का संदेश दिया गया है। फिल्म का मुख्य किरदार लक्ष्मीकांत चौहान इसी उहापोह में रहता है कि आखिर कैसे वह पुरुष होते हुए महिलाओं को इस बात के लिए मनाए कि वे गंदे कपड़े का इस्तेमाल नहीं करें।

सस्ते सैनेटरी पैड Low Cost Pad बनाने का सपना पूरा करने की जिद के कारण लक्ष्मीकांत को उसकी पत्नी छोड़ जाती है। वहीं पैड बनाने के लिए लक्ष्मीकांत रिसर्च के लिए जो अजीबोगरीब हरकतें करता है, उस कारण उसकी मां भी उसे छोड़ जाती है।

यहां तक कि गांव वाले भी लक्ष्मीकांत का बहिष्कार कर देते हैं। इसके बाद एक एमबीए छात्रा परी के किरदार में सोनम कपूर  Sonam Kapoor की एंट्री होती है। फिर परी ही लक्ष्मीकांत के सपने को पूरा करने में उसका साथ देती है।

यह भी पढ़ें

दमदार अभिनय Impressive Acting

पैडमैन फिल्म में अक्षय कुमार काफी दमदार भूमिका में हैं। राधिका आप्टे ने एक बार फिर अपने अभिनय की शानदार छाप छोड़ी है। मध्य प्रदेश के गांव की नवविवाहिता का रोल उन्होंने बखूबी निभाया है। फिल्म में खुशी, गम, मिलन और बिछोह के भावों को पूरी गम्भीरता से परदे पर उतारा गया है।

सोनम कपूर ने भी अपने किरदार को बड़े ही संतुलित भाव से फिल्म की कहानी के साथ-साथ अदा किया है। सोनम फिल्म में एक आईआईटी प्रोफेसर की बेटी बनी हैं। जो एक एमबीए छात्रा हैं और फिर अक्षय कुमार के मिशन को पूरा करने में उनके साथ रहकर उनका हाथ बंटाती हैं।

शानदार निर्देशन – Effective Direction

आर. बालकी एक मंझे हुए निर्देशक हैं और उन्होंने ‘पा’ Paa, ‘चीनी कम’ Cheeni Kam, तथा ‘की एंड का’ Ki & Kaa जैसे उम्दा फिल्मों का निर्देशन किया है। पैडमैन फिल्म में कहीं-कहीं ऐसा भी लगता है कि कुछ ज्यादा ही संदेश देने का प्रयास किया गया है।

इससे फिल्म का एंटरटेनमेंट फीचर कहीं-कहीं कमजोर पड़ता दिखता है। इंटरवल से पहले फिल्म की कहानी थोड़ा धीमे चलती है परन्तु इंटरवल के बाद कहानी गति पकड़ती है। फिल्म की कहानी में डवलपमेंट फीचर है और क्लाइमैक्स में काफी कसावट है।

पैडमैन फिल्म की कहानी यूं तो मूलत: दक्षिण भारत से सम्बंध रखती है परन्तु पटकथा मध्य प्रदेश के परिदृश्य पर आधारित है।

मिला जुला संगीत Music of Padman

पैडमैन फिल्म का संगीत अच्छा है। इस फिल्म का जो गाना सबसे अधिक लोकप्रिय हुआ है वह है, ‘आज से मेरी सारी खुशियां तेरी हो गई…’। इसी गाने से ही फिल्म की शुरूआत होती है। यह गाना कहानी के प्रमुख किरदार लक्ष्मीकांत के विवाह पर फिल्माया गया है। फिल्म के सैकण्ड हाफ में ‘हूबहू…’ गाना भी थोड़ा रूमानी सा ही है।

यह भी पढ़ें

इस साल 2018 में आने वाली बॉलीवुड की फिल्में

अमिताभ की गेस्ट अपीयरेंस Guest Appearance of Amitabh Bachhan

फिल्म में बॉलीवुड के सुपरस्टार अमिताभ बच्चन अतिथि भूमिका में हैं। अमिताभ किसी किरदार की भूमिका में नहीं हैं बल्कि आईआईटी दिल्ली IIT Delhi के इनोवेशन अवार्ड समारोह में अमिताभ बच्चन के रूप में ही मुख्य अतिथि बनकर आते हैं।

0 Comments

Add Yours →

Leave a Reply