Festivals & Days of February Month in Hindi

फरवरी  के त्यौहार और खास दिन
Festivals
& Days of February Month
@hindihaat
    इस वर्ष फरवरी February 2018 के महीने में Month महाशिवरात्रि mahashivratri, महर्षि दयानन्द
सरस्वती जयन्ती Maharshi
Dayanand Sarasvati, गाडगे महाराज जयन्ती, रोज डे Rose Day, प्रोपोज़ डे Propose Day, चॉकलेट डे Chocolate Day, टेडी डे Teddy Day, प्रॉमिस डे Promise Day, किस डे Kiss Day ,हग डे Hug Day, वैलेंटाइन्स डे Valentines Day ,स्लैप डे, Slap Day, किक डे Kick Day, परफ्यूम डे Perfume Day, फ्लर्टिंग डे Flirting Day, कॉन्फेशन डे confession Day, मिसिंग डे Missing Day, ब्रेक-अप-डे Break Up Day, सूरजकुंड इंटरनेशनल क्राफ्ट मेला Surajkund International Crafts Mela, सुला उत्सव Sula Utsav, गोवा कार्निवल Goa carnival, लोसर फेस्टिवल Losar festival, पारीयनपेट्टा पूर्ण कट्टाकुलम, नागौर मेला Nagaur Cattle Fair 2018, ब्रिज महोत्सव Braj mahotsav 2018 प्रमुख हैं.


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

सूरजकुंड इंटरनेशनल क्राफ्ट मेला
Surajkund International Crafts Mela
        2 फरवरी से 18 फरवरी तक चलने वाला यह मेला अंतरराष्ट्रीय शिल्प और स्थानीय
परंपराओं का बेजोड़ उदहारण है. दुनिया में सबसे बड़ी शिल्प प्रदर्शनियों में से ये एक है. यह त्योहार हरियाणा के फरीदाबाद के सूरजकुंड में मनाया
जाता
है. लाखों से
ज्यादा पर्यटकों और स्थानीय लोग इस मेला में आते  हैं.


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

 सुला उत्सव Sula Utsav
        सुला उत्सव 3 और 4 फरवरी को महाराष्ट्र के नासिक शहर में मनाया जाता है.  भारत में  इस साल इस उत्सव का ये दसवां संस्करण है. वाइन प्रेमियों के दो दिन के इस उत्सव
में इस साल कई कलाकार अपनी कला का परदर्शन करेंगे. इस अनूठे आयोजन के लिए लोगों में  खासा उत्साह है.

 गोवा कार्निवल Goa Carnival


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

गोवा कार्निवल
पूरे विश्व में प्रसिद्ध है. हर साल फरवरी के महीने में होने वाला ये उत्सव इस
साल 10 से 13 फरवरी के बीच होगा. गोवा अपने इस वार्षिक कार्निवल को बहुत धूमधाम और शान के साथ
मनाता है. ग्रांड जुलूस, नृत्य और संगीत प्रदर्शन के साथ अनेको रंगारग
कार्यक्रम इस दौरान होते हैं.
कार्निवल
पारम्परिक रूप से रोमन कैथोलिक चर्च में आयोजित होता है.

यह भी पढ़े:

महाशिवरात्रि   Mahashivratri  


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

        महाशिवरात्रि 13 फरवरी को मनायी जाएगी. हिंदी पंचांग के अनुसार
फाल्गुन माह की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी के दिन महाशिवरात्रि का त्यौहार देश भर में
पूरी श्रद्धा और आस्था के साथ मनाया जाता है. महाशिवरात्रि देवों के देव महादेव की
पूजा और उपासना का प्रमुख त्यौहार है. महाशिवरात्रि को शिव की आराधना की रात यानी
शिव- रात्रि भी कहा जाता है. इस दिन सभी शिव मंदिरों में कैलाशपति भगवान शिव का
अभिषेक और पूजा अर्चना की जाती है और ओम नमः शिवाय के जयकारे लगाए जाते हैं.

महर्षि दयानन्द सरस्वती जयन्ती 

 Maharshi Dayanand Sarasvati

         हर साल 12  फरवरी  को
 महर्षि दयानन्द
सरस्वती की जयन्ती के रूप में मनाते हैं. 12 फरवरी 1828
के दिन भारत के महान समाज सुधारक, सन्यासी और चिंतक दयानन्द सरस्वती का जन्म
गुजरात के काठियावाड़ क्षत्र में हुआ
था. दयानन्द सरस्वती ने ही आर्य समाज की स्थापना की थी. स्वराज का नारा सबसे पहले
दयानन्द सरस्वती ने ही दिया था, बाद में उस लोकमान्य तिलक ने आगे बढ़ाया.    

     वैलेंटाइन्स डे  Valentines Day


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

         14
 फरवरी को
वैलेंटाइन्स डे है. संत वैलेंटाइन के नाम से प्रचलित इस दिन लोग एक दूजे को
चॉकलेट, मिठाई, गिफ्ट, ग्रीटिंग कार्ड एवं अन्य उपहार देकर मनाते हैं. युवाओं का ये
फ़ेस्टिवल विभिन्न नामों से पूरे हफ्ते चलता है जिसे वेलेंटाइन वीक के नाम से भी जाना जाता है. वैलेंटाइन्स डे का महत्व युवाओं और विशेष रूप से प्रेमी के लिए बहुत
ज्यादा है. प्रेमी इस उत्सव को उत्साह के साथ मनाते हैं.
        पूरे सप्ताह चलने
वाले इस फेस्टिवल में 7 फरवरी को रोज डे, 8  फरवरी को प्रोपोज़ डे, 9 फरवरी को चॉकलेट डे,10 फरवरी को टेडी डे 11  फरवरी को प्रॉमिस डे, 12 फरवरी को किस डे, 13 फरवरी को हग डे,14  फरवरी को वैलेंटाइन्स डे,15  फरवरी को स्लैप डे, 16  फरवरी को किक डे, 17 फरवरी को परफ्यूम डे, 18 फरवरी को फ्लर्टिंग डे, 19
फरवरी को कॉन्फेशन
डे ,20
फरवरी को मिसिंग
डे और 21
फरवरी को ब्रेक अप
डे के रूप में मनाया जाता है.

लोसर फेस्टिवल Losar Fesdtival

        मूलतया तिब्बत में मनाये जाने वाला ये पर्व  इस साल 16
,17  फरवरी को  मनाया जायेगा. यह बौद्ध नव वर्ष की शुरुआत का प्रतीक है. लद्दाख, सिक्किम, उत्तराखंड, अरुणाचल प्रदेश और हिमाचल प्रदेश में तिब्बतियों की आबादी स्थित है, जहां लोसर को बहुत उत्साह से मनाया जाता है. त्योहार के दौरान एक बड़ा आकर्षण मुखौटा नृत्य है जो
एक ही समय में विस्मयकारी और भव्य दिखता है. भारत के विभिन्न हिस्सों में तिब्बती आबादी का काफी बड़ा हिस्सा होने के कारण यहाँ
भी पूरे उत्साह के साथ ये फेस्टिवल मनाया जाता है.


(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

पारीयनपेट्टा पूर्ण कट्टाकुलम

        पारीयनपेट्टा
पूर्ण कट्टाकुलम मूलतः केरल में मनाया जाता है. यह केरल के पलक्कड़ जिले के कट्टुकुलम में सात दिन तक चलने वाला उत्सव है. इस साल
19 फरवरी को इस समारोह के दौरान
 होने वाले अनेकों पारम्परिक नृत्य देखे जा सकते हैं. पारीयनपेट्टा पूर्ण कट्टाकुलम उत्सव में हाथी, लोक नृत्य, कला, कर्मकांड और जुलूस जैसे कार्यक्रम प्रमुख होते
हैं. यह पारीयानमपेता भगवती मंदिर का वार्षिक उत्सव है, जो हर  साल फरवरी में होता है.

नागौर मेला 

Nagaur Cattle Fair 2018

        नागौर मेला इस साल
22 से 25 फरवरी के बीच होगा. यह मुख्य रूप से पशुधन के व्यापार का
 मेला है. ये मेला
भारत में दूसरा सबसे बड़ा मवेशी मेला है, मेले में लोग अपने ऊंटों, घोड़ों और बैलों का व्यापार करते हैं. मेल के दौरान पशुओं के प्रदर्शन भी होते
हैं. 

ब्रज महोत्सव Braj mahotsav 

        ब्रज महोत्सव
विश्व प्रसिद्ध है. हर साल होली से पहले होने वाले इस रंगारंग कार्यक्रम की शुरुआत इस साल 25 फरवरी को होगी। दो दिन तक चलने वाले इस कार्यक्रम के दौरान रंग, गीत और नृत्य से जुड़ा अनेकों कार्यक्रम होंगे. यह
रंग का त्योहार है. रासलीला नृत्य इस उत्सव का प्रतिष्ठित उत्सव है. यह महोत्सव भगवान
कृष्ण और राधा के
 रास लीलाओं पर आधारित है.  

यह भी पढ़ें:
ये हिल स्टेशन नहीं देखे, तो क्या देखा:

Leave a Reply