Asean essay— दक्षिण पूर्वी एशिआई देशो का प्रभावी संगठन asean in hindi

Asean essay— दक्षिण पूर्वी एशिआई देशो का प्रभावी संगठन asean in hindiGeneral khowledge, asean summit 2017, asean summit, asean members, asean 2017, asean countries list, asean in hindi, asean youth summit 2017, asean meaning, asean countries, asean and india
आज व्यापार ने पूरी दुनिया को एक गांव में बदल दिया है और सभी देश एक दूसरे के साथ ज्यादा से ज्यादा व्यापार करने और मुनाफा कमाने के लिए नये नये संगठन बना रहे हैं. यूरोपियन यूनियन के समकक्ष बनने के लिए पूरी दुनिया के देश कुछ न कुछ हर साल नया कर रहे हैं। सार्क, नाटो, ईयू और ओपेक जैसे संगठनों के बीच एक नया संगठन आसियान लगातार अपनी जगह बनाता जा रहा है.

क्या है आसियान और आसियान की स्थापना?

आसियान यानि एसोसिएशन आॅफ साउथ ईस्ट एशियन नेशंस asean meaning का लघू रूप है. इस संगठन में जैसा की नाम से ही पता चलता है कि यह एशिया के दक्षिण पूर्व में स्थित देशों का गुट है जो अपने व्यापारिक और साझा हितों के लिए काम करता है. आसियान की स्थापना 8 अगस्त 1967 को की गई. इस संगठन की स्थापना तो थाइलैंड की राजधानी बैंकॉक में हुई लेकिन इसका मुख्यालय इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता में रखी गई है. थाईलैंड, इंडो​नेशिया, मलेशिया, फिलिपींस और सिंगापुर इसके संस्थापक सदस्य बने. ब्रुनेई 1984 में इसका सदस्य बना और इसके बाद 1994 में वियतनाम को भी इस संगठन का हिस्सा बना लिया गया. 1997 में लाओस और बर्मा को भी इस संगठन की सदस्यता दे दी गई.

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});



यह भी पढ़े:











आसियान का चार्टर asean charter और आसियान के उद्देश्य asean achievements and failures



1976 में आसियान की पहली बैठक आयोजित की गई जिसमें इसका चार्टर asean declaration बनाया गया. इस चार्टर को बंधुत्व और सहयोग की संधि कहा गया और सभी देशों ने इस पर हस्ताक्षर किए. इस चार्टर में असियान ने अपने सभी उद्देश्यों के बारे में बताया है, जिसमें पहला उद्देश्य कहता है कि आसियान सभी सदस्य देशों की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता को कायम रखने में सहयोग करेगा और सदस्य देशों के बीच होने वाले विवादों का शांतिपूर्वक निपटारा करने का प्रयास करेगा.

आसियान का सेकेट्री जनरल asean chairman and Secretary General

आसियान ने अपने उद्देश्यों को पूरा करने के लिए अपने संगठन में सेक्रेट्री जनरल का एक पद सृजित किया है जिस पर चुना जाने वाला व्यक्ति पांच वर्ष तक अपनी सेवाएं देता है. साथ ही वह आसियान में पास सभी प्रस्तावों को पास करवाने और उन्हें लागू करवाने के लिए भी काम करता है.  वर्तमान में थाइलैंड के सूरिन पिट्स्वान सेक्रेट्री जनरल के पद पर अपनी सेवाएं दे रहे हैं.



आसियान के सदस्य देश asean countries list या आसियान देश asean members

1. ब्रुनेई
2. कंबोडिया
3. इंडोनेशिया
4. लाओ पीडीआर
5. मलेशिया
6. म्यांमार
7. फिलीपींस
8. सिंगापुर
9. थाईलैंड
10. वियतनाम

आसियान की संरचना और asean summit 2017 असियान सम्मिट 2018

आसियान की सबसे बड़ा आयोजन हरेक वर्ष होने वाला शिखर सम्मेलन Asean Annual summit है जहां सदस्य देशों के प्रमुख हिस्सा लेते हैं और सभी बड़े फैसले इसी सम्मिट में लिए जाते हैं. इस वर्ष asean summit 2017 venue आसियान सम्मिट 2017 फिलिपिन्स की राजधानी मनीला में आयोजित किया गया. असियान का दूसरा बड़ा आयोजन असियान मिनिस्ट्रीयल मीटिंग के तौर पर होता है. यह आयोजन भी साल में एक बार होता है जिसमें असियान के सदस्य देशों के विदेश मंत्री हिस्सा लेते हैं. असियान मिनिस्ट्रीयल मीटिंग्स को रिपोर्ट करने के लिए असियान स्टैंडिंग कमेटी बनाई गई है जिसका अध्यक्ष मीटिंग करने वाले सदस्य देश का विदेश मंत्री होता है. इसके अलावा भी आसियान में 29 कमेटी और 122 तकनीकी समूह अपनी सेवाएं देते हैं.

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

असियान और भारत asean and india

असियान की इस बात को लेकर आलोचना होती रही है कि यह सिर्फ किताबों और रिपोर्टस तक सीमित रहा है और जमीन पर इसका काम बहुत कम नजर आता है. भारत के लिए इस संगठन का महत्व बहुत अधिक हो जाता है क्योंकि दक्षिण एशिया का सबसे बड़ा मुल्क होने के साथ ही वह कई असियान देशों के साथ अपनी जमीनी और समुद्री सीमा बांटता है. ऐसे में इन देशों के साथ सहयोग की नीति भारत के हित में है. आसियान देश भी उम्मीद के साथ भारत की तरफ देख रहे हैं क्योंकि दक्षिण एशिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था होने के कारण भारत न सिर्फ उनका सहायक बन सकता है बल्कि उनके लिए बूस्ट इंजन का काम भी कर सकता है. भारत का दोस्ताना और शांतिपूर्ण रवैया तथा चीन की विस्तारवादी नीति के बीच आसियान देशों का झुकाव भी भारत की तरफ दिखाई दे रहा है.



यह भी पढ़े:







Leave a Reply