How to detect diabetes in early stage -पहचाने डायबिटिज को?

शुरूआती स्तर पर कैसे पहचाने डायबिटिज को?

भारत पर किए गए एक शोध अध्ययन के अनुसार 2030 तक भारत में डायबिटिज के 50 करोड़ से भी ज्यादा मरीज हो जाने वाले है. शुगर के ज्यादातर मरीजों को अपनी इस बीमारी के बारे में पता ही बहुत देर से चलता है क्योंकि इस बीमारी के लक्षण बहुत धीरे और अन्य बीमारियों से मिलते जुलते हैं.

अगर ये परेशानियां है तो हो सकता है मधुमेह:

  • अगर आपको अपच की शिकायत होती है और बार—बार शौच जाना पड़ता है. मधुमेह के रोगी की पाचन शक्ति कमजोर हो जाती है.
  • बार—बार लघुशंका से निवृत होना और पानी की कमी की वजह से ज्यादा प्यास लगना इस रोग का एक प्रमुख लक्षण है.
  • अगर आपके वजन में कोई अप्रत्याशित परिवर्तन होता है तो यह डायबिटीज का लक्षण हो सकता है. शुगर में वजन कम और ज्यादा दोनो होते हैं. यह एक भ्रांति है कि शुगर के मरीजों का वजन सिर्फ बढ़ता है.
  • अगर आप अक्सर कमजोरी महसूस करते हैं और अचानक आपकी भूख बढ़ गई है तो आपको अपने शरीर में शुगर के स्तर की जांच करवा लेना चाहिए.
  • अपने आप को थका हुआ महसूस करना या फिर काम के बाद बहुत ज्यादा थकान महसूस करना भी इस बीमारी का एक प्रमुख लक्षण है.
  • अगर आपके स्वभाव में बदलाव आया है मसलन आपको पहले की तुलना में जल्दी गुस्सा आता है ​या फिर चिड़चिड़ापन बढ़ गया है तो आपको सावधान होने की जरूरत है.
  • अगर आपके चश्में का नंबर तेजी से बढ़ गया है तो मधुमेह आपको अलार्म दे रहा है. शरीर में शुगर का लेवल बढ़ जाने पर दिखाई देने में समस्या आने लगती है.
  • अगर आपके जख्म नहीं भर रहे हैं या फिर बहुत धीरे भर रहे हैं तो यह भी डायबिटीज का एक प्रमुख लक्षण है.
  • अगर आप हाथ—पैरों में झनझनाहट या सूनापन महसूस करते हैं और यह समस्या लंबे समय से बनी हुई है तो आपको अपने ब्लड शुगर की जांच करवा लेनी चाहिए.

यह भी पढ़ें:

0 Comments

Add Yours →

Leave a Reply