navratri pooja vidhi-siddhidatri नवदुर्गा के नवीं शक्ति रूप सिद्धिदात्री की पूजा विधि

नवदुर्गा के नवीं शक्ति रूप सिद्धिदात्री की पूजा विधि

माँ दुर्गा की नवीं शक्ति का नाम सिद्धिदात्री है. ये सभी प्रकार की सिद्धियों को देने वाली हैं. नवरात्र-पूजन के नवें दिन इनकी उपासना की जाती है. इस दिन शास्त्रीय विधि-विधान और पूर्ण निष्ठा के साथ साधना करने वाले साधक को सभी सिद्धियों की प्राप्ति होती है. सृष्टि में कुछ भी उसके लिये अगम्य नहीं रह जाता. मनोवांछित फल प्राप्त करने की सामर्थ्य उसमें आ जाती है. नव दुर्गाओं में मां सिद्धिदात्री अन्तिम हैं. अन्य आठ दुर्गाओं की पूजा-उपासना शास्त्रीय विधि-विधान के अनुसार करते हुए भक्त दुर्गा-पूजा के नवें दिन इनकी उपासना में प्रवृत्त होते हैं.

सिद्धगन्धर्वयक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि.
सेव्यमाना सदा भूयात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी..

मां सिद्धिदात्री भक्तों और साधकों को सभी सिद्धियां प्रदान करने में समर्थ हैं. देवीपुराण के अनुसार भगवान शिव ने इनकी कृपा से ही इन सिद्धियों को प्राप्त किया था. इनकी अनुकम्पा से ही भगवान शिव का आधा शरीर देवी का हुआ था. इसी कारण वह लोक में ’अर्द्धनारीश्वर’ नाम से प्रसिद्ध हुए. मां सिद्धिदात्री चार भुजाओं वाली हैं. इनका वाहन सिंह है. ये कमल पुष्प पर भी आसीन होती हैं. इनकी दाहिनी तरफ के नीचे वाले हाथ में चक्र, ऊपर वाले हाथ में गदा तथा बायीं तरफ के नीचे वाले हाथ में शंख और ऊपर वाले हाथ में कमलपुष्प है.

सिद्धिदात्री मां की उपासना पूर्ण कर लेने के बाद भक्तों और साधकों की लौकिक-पारलौकिक सभी प्रकार की कामनाओं की पूर्ति हो जाती है. लेकिन सिद्धिदात्री मां के कृपापात्र भक्त के भीतर कोई ऐसी कामना शेष बचती ही नहीं है, जिसे वह पूर्ण करना चाहे. वह सभी सांसारिक इच्छाओं, आवश्यकताओं और स्पृहाओं से ऊपर उठकर मानसिक रूप से मां भगवती के दिव्य लोकों में विचरण करता हुआ, उनके कृपा-रस-पीयूष निरन्तर पान करता हुआ, विषय-भोग-शून्य हो जाता है. मां भगवती का परम सान्निध्य ही उसका सर्वस्व हो जाता है. इस परम पद को पाने के बाद उसे अन्य किसी भी वस्तु की आवश्यकता नहीं रह जाती.

मां के चरणों का यह सान्निध्य प्राप्त करने के लिये भक्तों को निरन्तर नियम निष्ठ रहकर उनकी उपासना करनी चाहिए. मां भगवती का स्मरण, ध्यान, पूजन हमें इस संसार की असारता का बोध कराते हुए वास्तविक परम शांति दायक अमृत पद की ओर ले जाने वाला है.

मार्कण्डेयरपुराण के अनुसार अणिमा, महिमा, गरिमा, लघिमा, प्राप्ति, प्रकाम्य, ईशित्व और वशित्व- ये आठ सिद्धियां होती  हैं. ब्रह्मवैवर्त पुराण के श्रीकृष्ण-जन्मखण्ड में यह संख्या अठारह  बताई गई है. इनके नाम इस  प्रकार हैं –
लघिमा सर्वज्ञत्व सृष्टि
प्राप्ति दूरश्रवण अमरत्व
प्रकाम्य परकायप्रवेशन सर्वन्यायकत्व
ईशित्व वाशित्व कल्पवृक्षत्व
सिद्धि महिम वाक्सिद्धि
भावना अणिमा सर्वकामावसायिता

यह भी पढ़ें:

नवदुर्गा पूजा: आठवीं दुर्गा महागौरी की पूजा विधि

नवदुर्गा पूजा: सातवीं दुर्गा कालरात्रि की पूजा विधि

नवदुर्गा पूजा: छठी दुर्गा मां कात्यायनी की पूजा विधि

नवदुर्गा पूजा: पांचवीं दुर्गा स्कन्द माता की पूजा विधि

नवदुर्गा पूजा: चौथी दुर्गा मां कुष्मांडा की पूजा विधि

नवदुर्गा पूजा: तीसरी दुर्गा मां चंद्रघंटा की पूजा विधि

नवदुर्गा पूजा: दूसरी दुर्गा मां ब्रह्मचारिणी की पूजा विधि

नवदुर्गा पूजा: प्रथम दुर्गा मां शैलपुत्री की पूजा विधि

शारदीय नवरात्र की पूजा के विधि—विधान

0 Comments

Add Yours →

Leave a Reply